शनिवार, 24 अप्रैल 2010

शाम-ओ-सहर

इक शाम उठाकर
साहिल से
तुमने बाँधी है
ज़ुल्फो मे
इक रिबन उठा कर
लहरों से,

अब सुबह जो
खोली हैं जुल्फे
इक झरना सा
बह निकाला है,
इक मौज उजाले की जानां
कल कल की सदा मे
बहती है....

ये भीगे बाल
सुख़ाओ ना,
इक बादल की
टॉवेल लाकर
अब इनको ज़रा सा
झटकाओ,
अब शाम-ओ-सहर के
कुछ छींटे
चेहरे पे मेरे तुम
बरसाओ.......

17 टिप्‍पणियां:

sangeeta swarup ने कहा…

इक बादल की
टॉवेल लाकर
अब इनको ज़रा सा
झटकाओ,

वाह क्या टावल है...प्यारी सी झरने की तरह झरती हुई नज़्म...

कुश ने कहा…

गुलज़ारिश मूड में लिखे हो लगता है..

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता है ... उपमाएं बहुत सुन्दर लगी ...

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi achhi kavita....
padhna achha laga...
yun hi kihte rahein...
aapki pichli post par maine aapko jawab diya tha ummeed hai aapne padha hoga...

दिलीप ने कहा…

bahut khoob urdu english sab kuch kitna dil se istmal kiya....

सुलभ § सतरंगी ने कहा…

दिल से शब्द बरसाया है आपने...

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

सुंदर प्रयास.....!!

SAMVEDANA KE SWAR ने कहा…

निःशब्द!!!

रचना दीक्षित ने कहा…

इक बादल की
टॉवेल लाकर
अब इनको ज़रा सा
झटकाओ,
वाह !!!!!!!!! क्या बात है.....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत ही हसीन कल्पना .... लाजवाब सोच ... मज़ा आ गया पढ़ कर ....

vandana ने कहा…

what a thought sirji ....behad khoobsoorat!

वीनस केशरी ने कहा…

मुझे किसी ने कहा था की नई कविता को आप बहुत नाटकीयता से पढ़ सकते है मगर ले से गा नहीं सकते

आज ये बात गलत लगी

बहुत सुन्दर

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत खूब रचा...आनन्द आ गया!!

mukti ने कहा…

सुन्दर कल्पनायें...नवीन उपमायें...लयात्मकता...मोहकता...मासूमियत...ये सब पाया मैंने...यहाँ.

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

@mumma
:)

@kush

main to 24 ghante usi mood me rehta hun .. :)


@indraneel ji

bahut bahut shuqriya

@shekhar ji

shuqriya ji ...

@dilip ji ..

bahut bahut shuqriya

@satrangee ji heer ji samvedna ji
dher sara shuqriya ap sab ka


@rachna ji , digambar ji , vandna

dher sara thanku hai aap logon ko


@venus babu

are sahab ..kavita me lay na ho to ..maza kahaan hain..aazad nazmon me bhi lay honi chahiye..halanki ..ye mujhse bar bar nahi hota...
shuqriya aapne lay pehchani


@sameer ji

:) than ku hai ji

@ mukti ji

thanku ji . maine jo jo rakhna chjaha..wo sab aap ko dikh gaya.. :)

Avinash Chandra ने कहा…

Kya kahun...sabne kah diya...dohra dun, chalega?

स्वप्निल कुमार 'आतिश' ने कहा…

han re avi...chalega.. :)